कौशल विकास का सिलेबस बनाएगा रिलायंस फाउंडेशन, 5 लाख युवाओं को होगा फायदा, केंद्र की एजेंसी के साथ करार

0

हाइलाइट्स

5 लाख युवाओं के लिए रिलायंस फाउंडेशन ने NSDC के साथ साझेदारी की.
अगले तीन वर्षों में इस साझेदारी से 500,000 युवा प्रभावित होंगे.
इसके जरिये भविष्य के कौशल के लिए अत्याधुनिक पाठ्यक्रम विकसित किए जाएंगे.

नई दिल्ली. रिलायंस फाउंडेशन और राष्ट्रीय कौशल विकास निगम (NSDC) ने 500,000 भारतीय युवाओं के लिए भविष्य के लिए तैयार कौशल वाले पाठ्यक्रम बनाने के लिए एक रणनीतिक साझेदारी किया है. इस साझेदारी में एडटेक, साइबर सुरक्षा, कृत्रिम बुद्धिमत्ता (AI), पर्यावरण में स्थिरता, नीति विश्लेषण और कई अन्य क्षेत्रों में युवाओं के लिए क्षमता बनाने पर ध्यान केंद्रित करने वाले पाठ्यक्रम का विकास शामिल है. रिलायंस फाउंडेशन के डिजिटल तौर पर आगे बढ़ने के नजरिये की मदद से इस साझेदारी से नए करियर के अवसरों में रुचि रखने वाले युवाओं के बीच लोकप्रियता बढ़ने की उम्मीद है. जिनके लिए भविष्य की सोच की जरूरत है.

इस अवसर पर बोलते हुए केंद्रीय शिक्षा और कौशल विकास और उद्यमिता मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि ‘स्किलिंग, री-स्किलिंग और अप-स्किलिंग के मंत्र को अपनाने से भारत अजेय बन जाएगा. कौशल पारिस्थितिकी तंत्र में हर तरह की डिजिटल पहल कहीं भी कौशल, कभी भी कौशल और सभी के लिए कौशल सुनिश्चित कर रही हैं. जैसे-जैसे भारत एक विकसित राष्ट्र बनने की दिशा में आगे बढ़ रहा है, प्रौद्योगिकी, पैमाने और स्थिरता का लाभ उठाकर, भारतीय कार्यबल न केवल घरेलू मांग, बल्कि वैश्विक मांग को भी पूरा करेगा और नए मानक स्थापित करेगा.’

भारत में दुनिया की सबसे बड़ी युवा आबादी
इस रणनीतिक साझेदारी के महत्व पर जोर देते हुए रिलायंस फाउंडेशन के सीईओ जगन्नाथ कुमार ने कहा कि ‘भारत में दुनिया की सबसे बड़ी युवा आबादी है, और यह उन्हें भविष्य के लिए तैयार कौशल के साथ तैयार करने का हमारा प्रयास है. रिलायंस फाउंडेशन में हमारा मानना है कि इससे उनकी आकांक्षाओं को पूरा करने और उनके लक्ष्यों को हासिल करने में मदद मिलेगी. एनएसडीसी के साथ यह साझेदारी युवाओं को कौशल विकसित करने, वर्क प्रोफाइल विकसित करने और अवसरों के साथ दक्षताओं को जोड़ने में मदद करेगी. रिलायंस फाउंडेशन और एनएसडीसी हमारे युवाओं के लिए योगदान देने के लिए हमारी अनूठी शक्तियों के साथ-साथ एक समान दृष्टिकोण और उद्देश्य लेकर आते हैं.’

एनएसडीसी
भारत सरकार के कौशल भारत मिशन को बढ़ावा देते हुए एनएसडीसी एक नोडल कौशल विकास एजेंसी है. जो भारत सरकार के कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय (एमएसडीई) के तहत काम करती है. एक अद्वितीय सार्वजनिक निजी भागीदारी (PPP) है जिसका उद्देश्य भारत में एक बड़ा और गुणवत्तापूर्ण व्यावसायिक प्रशिक्षण पारिस्थितिकी तंत्र तैयार करना है. उच्च गुणवत्ता वाले पाठ्यक्रम का डिजाइन और विकास, छात्र सेवाएं कायम करना. प्रशिक्षकों का प्रशिक्षण, सहयोग का समर्थन करना, एआई सहायता हासिल ऑनलाइन मूल्यांकन, प्रमाणपत्र और उद्योग-जगत में प्लेसमेंट इस साझेदारी का एक अभिन्न अंग हैं. रिलायंस फाउंडेशन हाशिए पर रहने वाले लोगों और युवाओं के लिए अवसरों के साथ आजीविका बनाने और बढ़ाने पर काम कर रहा है. एनएसडीसी के साथ यह साझेदारी उस दिशा में एक और कदम है.

skill development courses: स्कूल लेवल पर स्किल डेवलपमेंट कोर्स होंगे तैयार ? प्रधान ने मागें सुझाव

रिलायंस फाउंडेशन
रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की परोपकारी शाखा, रिलायंस फाउंडेशन का लक्ष्य नवीन और टिकाऊ समाधानों के जरिये भारत की विकास चुनौतियों का समाधान करने में एक बड़ी भूमिका निभाना है. रिलायंस फाउंडेशन संस्थापक और अध्यक्ष श्रीमती नीता एम अंबानी के नेतृत्व में रिलायंस फाउंडेशन ग्रामीण बदलाव, शिक्षा, स्वास्थ्य, विकास के लिए खेल, आपदा प्रबंधन, महिला सशक्तिकरण, शहरी नवीनीकरण, संस्कृति, विरासत और कला पर ध्यान केंद्रित करते हुए सभी के समग्र कल्याण और जीवन की बेहतर गुणवत्ता के लिए लगातार काम कर रही है. इसने पूरे भारत में 55,400 से अधिक गांवों और शहरी स्थानों में 7.2 करोड़ से अधिक लोगों के जीवन को प्रभावित किया है.

(डिस्क्लेमर – नेटवर्क18 और टीवी18 कंपनियां चैनल/वेबसाइट का संचालन करती हैं, जिनका नियंत्रण इंडिपेंडेट मीडिया ट्रस्ट करता है, जिसमें रिलायंस इंडस्ट्रीज एकमात्र लाभार्थी है.)

Tags: Reliance, Reliance Foundation, Reliance industries, Reliance news