‘करतारपुर बॉर्डर पर रखे हैं हथियार…’ किसानों को भड़काने में जुटा आतंकी पन्नू

0

हाइलाइट्स

खालिस्तानी आतंकवादी गुरपतवंत सिंह पन्नू आंदोलनकारी किसानों को भड़काने की कोशिश में जुटा है.
पन्नू ने एक नया वीडियो जारी करते हुए इन किसानों को पुलिस अधिकारियों पर हमला करने के लिए उकसाया है.
उसने कहा है कि पाकिस्तान से सटे करतारपुर बॉर्डर हथियार रखे हैं, जिसे किसानों तक पहुंचाया जा सकता है.

नई दिल्ली. खालिस्तानी आतंकवादी गुरपतवंत सिंह पन्नू आंदोलनकारी किसानों को भड़काने की कोशिश में जुटा है. उसने एक नया वीडियो जारी करते हुए इन किसानों को हरियाणा और पंजाब में पुलिस अधिकारियों पर हमला करने के लिए हथियार देने की पेशकश की है.

अमेरिका में बैठे प्रतिबंधित संगठन सिख फॉर जस्टिस (SFJ) के संस्थापक पन्नू ने अपने इस ताजा वीडियो में हरियाणा से सटे पंजाब के शंभू और खनौरी बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे किसानों को भड़काने की कोशिश करते हुए उनसे कहा कि करतारपुर बॉर्डर पर हथियार रखें हैं. उसने किसानों से कहा कि अपनी मांगों को लेकर केंद्र पर दबाव बनाने के लिए इन हथियारों से पुलिस अधिकारियों को निशाना बनाएं.

ये भी पढ़े- ‘हम 21 फरवरी तक…’ मंत्रियों के साथ बैठक में बन गई बात! किसानों ने रोका ‘दिल्ली चलो’ मार्च

पन्नू ने कहा, ‘भारतीय गोलियों का जवाब आप भी गोली से दो. पाकिस्तान से सटे करतारपुर बॉर्डर पर आपके लिए हथियार रखे हुए हैं.’

किसानों की शिकायतें दूर करने के लिए बातचीत जारी
उधर शीर्ष खुफिया सूत्रों के मुताबिक, पन्नू भोले-भाले किसानों को भड़काने की कोशिश कर रहा है. आधिकारिक सूत्रों ने कहा, ‘किसानों को विरोध करना उनका वैध अधिकार है. कोई भी किसान एसएफजे की बात नहीं मानेगा. केंद्र सरकार किसानों की सभी समस्याओं को हल करने के लिए प्रतिबद्ध है और बातचीत जारी है.’

बता दें कि संयुक्त किसान मोर्चा (गैर-राजनीतिक) और किसान मजदूर मोर्चा द्वारा बुलाया गया उनका ‘दिल्ली चलो’ मार्च छठे दिन में प्रवेश कर गया. इस दौरान पंजाब, हरियाणा और उत्तर भारत के अन्य हिस्सों में कई किसान सड़कों पर डटे हैं. वहीं किसानों के ‘दिल्ली चलो’ मार्च को राष्ट्रीय राजधानी में प्रवेश से रोकने के लिए बड़ी संख्या में सुरक्षा बल तैनात हैं.

ये किसान एमएसपी के लिए कानूनी गारंटी के अलावा, कृषकों के कल्याण के लिए स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करने, किसानों और खेत मजदूरों के लिए पेंशन तथा कर्ज माफी, लखीमपुर खीरी हिंसा के पीड़ितों के लिए न्याय, भूमि अधिग्रहण अधिनियम 2013 को बहाल करने और पिछले आंदोलन के दौरान मारे गए किसानों के परिवारों को मुआवजा देने की भी मांग कर रहे हैं.

Tags: Farmer Agitation, Khalistani terrorist

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here